Vastu Shastra in Hindi | Vastu Dosh Remedies | Vastu Tips For Chart/Map

5
(1)

नमस्कार मित्रों, आज हम एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर सटीक जानकारी देने जा रहे हैं। ये विषय जन सामान्य से जुड़ा हुआ है। जिसका नाम है। Vastu Shastra – आज प्रत्येक व्यक्ति जीवन में आने वाली difficulties के Solution के लिए। Vastu का सहारा लेना चाहता है। लेकिन, सही जानकारी ना मिलने के कारण। वो आधी अधूरी जानकारी के माध्यम से पूरा लाभ लेना चाहता है। ऐसा संभव नहीं है। इस लेख के माध्यम से Vastu के बारे में बरी – बरी से पूरी जानकारी देंगे। आज के इस लेख में हम जानेंगे Vastu Shastra क्या है? Hindi में, Vastu Dosh Remedies, Vastu Tips व Vastu Chart या Map कैसे बनाए।

लेकिन आपको एक सुझाव देना चाहेंगे कि आप अपने आप कहीं से सुनकर। कहीं से पढ़ कर Vastu का प्रयोग ना करें। किसी अच्छे Vasut Expert की सलाह के अनुसार ही कार्य करें तभी आपको Vastu का पूरा लाभ मिलेगा।

आज के आधुनिक युग में Vastu Shastra का चारों तरफ बोल बाला है। Vastu Shastra के सिद्धांतो के अनुसार बनाया गया कोई भी निर्माण उस स्थान के स्वामी के लिए अत्यंत लाभ दायक होता है। परन्तु, किसी गलती के कारण अगर कोई Vastu Dosh उत्पन्न हो जाता है तो जिस प्रकार का Vastu Dosh उत्पन्न होगा। भूस्वामी को उसी प्रकार की गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। Vastu प्रकृति और मानव के बीच में सामंजस्य स्थापित करने का विज्ञान है।

Also Read: Vastu Tips For Office and Business Growth

Vastu Shastra क्या है? जाने Hindi में

प्रकृति पांच तत्वों पर आधारित है। मानव शरीर भी पांच तत्वों से निर्मित है। जिस प्रकार मानव शरीर में अगर किसी एक तत्व का असंतुलन हो जाने पर व्यक्ति शारीरिक या मानसिक रूप से बीमार हो जाएगा। उसी प्रकार से कोई भी निर्माण करते समय अगर प्रकृति के पांच तत्वों में असंतुलन हो जाएगा वही Vastu Dosh कह लाएगा। इसके कारण मालिक को या वहां रहने वाले व्यक्तियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। Vastu Shastra पूरे वैज्ञानिक दृश्टिकोण पर आधारित है। इसमें सूर्या की किरणों , पृथ्वी का चुम्बकीय छेत्र तथा भूगोलिक परिथितियों का ध्यान रखा जाता है।

प्रत्येक व्यक्ति चाहता है कि उसका अपना माकन हो। जिसमें रहकर वो अपने परिवार सहित खुशाली से जीवन जी सके लेकिन कभी – कभी देखा गया है कि जैसे ही व्यक्ति नया भवन निर्माण करता है और उसमें निवास करता है या नए किराए के माकन में शिफ्ट होता है। उस पर परेशानियों के पहाड़ टूटने लगते हैं। इन सबके पीछे Vastu Shastra का बहुत बड़ा Role है। अगर इस प्रकार की कोई भी समस्या हम महसूस कर रहे हैं। तो तुरंत किसी अच्छे Vastu Expert की सलाह लेकर निदान कराएँ।सामान्य भाषा में Vastu Shastra को भवन निर्माण की कला का नाम दिया जा सकता है।

Vastu Shastra में सूर्य का महत्व

Vastu Shastra के सिद्धांतो का निर्धारण सूर्य की स्थिति और भ्रमांड पर उसके पड़ने वाले प्रभाव को ध्यान में रख कर किया गया है। हमें भवन निर्माण इस प्रकार करना चाहिए जिससे सूर्य की जीवन देने वाली किरणों के प्रवाह में कोई भी भद्दा उत्पन्न न हो। Vastu के अनुसार भवन का दक्षिण भाग उत्तर की अपेक्षा ऊँचा होना चाहिए और पूर्वे भाग पश्चिमी भाग से नीचा रहना चाहिए। पूर्व और उत्तर-पूर्व की दिशा में खुली दिशा होनी चाहिए। इस प्रकार जिस समय तक सूर्य जीवन दायिनी किरणें देता है। उसी समय की किरणें हमारे प्रतिष्ठान के अंदर पड़ेंगी और जिस समय सूर्य हमें हानिकारक Ultra Violet Rays देगा उस समय की किरणें हमारे भवन में नहीं पड़ेंगी।

Also Read: Vastu Tips for House

Vastu and Magnetic Field

Vastu का दूसरा प्रभावशाली कारण उसका Magnetic Field है। पृथ्वी पर Magnetic Field North Pole से South Pole की तरफ Flow होता है और मनुष्य का शरीर भी Magnetic North Pole की तरह ही कार्य करता है। इस बात का विशेष ध्यान रखा जाता है कि मनुष्य की शारीरिक ऊर्जा और निवास स्थान में प्रवाहित होने वाली Magnetic Rays का आपस में संतुलन होना जरुरी है।

North-West Magnetic Pole की स्थिति भू-खंड के सामने वाली दीवार या मार्ग से Parallel होनी चाहिए। इधर-उधर नहीं होनी चाहिए। भू-खंड की North and South Direction की दीवार 90 Degree पर होने चाहिए।

Vastu and Nature

भ्रमांड की रचना पांच तत्वों से मिलकर हुई है। अतः भवन निर्माण में इन्ही पांच तत्वों का संतुलन बनाकर रखना Vastu Shastra है।

Also Read: What is Plamistry?

Vastu Dosh Tips/Remedies

व्यक्ति केवल तीन तत्वों को सही से स्थापित करले जिसमे अग्नि , भूमि और जल तीनों को सही Direction में स्थापित करले तो शेष तो तत्व वायु और आकाश स्वयं ठीक हो जाते हैं।

अगर हम उपरोक्त सभी बातों का ध्यान रखते हैं तो हमें किसी भी प्रकार की Vastu Remedies करने की जरुरत नहीं है। लेकिन अगर कहीं गलती होगई है तो उसके उपाय किए जा सकते हैं। लेकिन प्रत्येक स्थान के अनुसार उपाय अलग – अलग होंगे जिसका निर्धारण Vastu Expert ही बता सकता है। फिर भी हम कुछ सामान्य Vastu Tips and Remedies बता रहे हैं। जैसे :

  • Vastu Shanti Pooja
  • Color Vastu
  • Vastu Yantra – Click Here to Buy
  • Mantra Jap
  • Vastu Pyramid

Vastu Chart or Map

Vastu Shastra Chart or Map

How useful was this post?

Click on a star to rate it!